Minnum Pani Saaral En Nenjil Lyrics

Song: Unakkul Naane (Minnum Pani Saaral En Nenjil)
Singer: Bombay Jayashri
Lyrics: Rohini
Music: Harris Jayaraj
Label: Ayngaran

Minnum Pani Saaral En Nenjil Lyrics

Minnum Panisaral Un Nenjil Sernthale
Kannil Unnai Vaithu Pen Thaithu Kondale

Vennila Thuvin Than Kadhal Sonnale
Malligai Vasam Un Pechil Kandale

Pon Man Ivala, Un Vanavila
Un Van Ivala, Un Vanavila

Unnakkul Nane Urughum Iravil Ullathai Nan Sollava
Maruvum Manathin Ragasiya Araiyil Othigai Parthida Va

Sirugha Sirugha Unnil Yennai Tholaithu Mozhi Sollava
Sollal Sollum Yennai Vattum Ranamum Thean Allava

Unnakkul Nane Urughum Iravil Ullathai Nan Sollava
Yenno Nam Poi Varthayethan Yenn Athil Un En Mouname Than

Uthattil Sirrippai Thanthai Manathil Ganathai Thanthaiz
Oru Murai Unnai Yenakkendru Swasikkava

Marumurai Unnai Puthithaga Swasikkava
Unnakkul Nane Urughum Iravil Ullathai Nan Sollava

Maruvum Manathin Ragasiya Araiyil Othigai Parthida Va
Theepol Theanpol Salanamethan,

Mathiyinum Nimmathi Sidhaiyavethan
Nizhalai Vittu Sendraye, Ninaivai Vetti Sendraye

Ini Oru Piravi Unnodu Vazhndhidava
Athu Varai Yennai Katrodu Serthidava

Unnakkul Nane Urughum Iravil Ullathai Nan Sollava
Maruvum Manathin Ragasiya Araiyil Othigai Parthida Va

Sirugha Sirugha Unnil Yennai Tholaithu Mozhi Sollava
Sollal Sollum Yennai Vattum Ranamum Thean Allava

Minnum Pani Saaral En Nenjil Lyrics Translation

उसके दिल को अपने अंदर जमी हुई बूंदों के चमकने का अहसास हुआ
और उसने मेरी छवि को उसकी आँखों में सिला

उसने चांदनी की छटा बिखेर कर अपने प्यार का इजहार किया
और तुम्हारी वाणी में चमेली की कोमलता को महसूस किया

क्या वह स्वर्ण मृग है? या वह इंद्रधनुष के रंग हैं?
क्या वह स्वर्ण मृग है? या वह इंद्रधनुष के रंग हैं?

क्या मैं अपने एहसास बताऊँ कैसे मैं पिघलता हूँ, रात में तुम्हारे बारे में सोचता हूँ
और मेरा दिल आपको अंतिम संदेश देने के लिए लगातार अभ्यास कर रहा है

और क्या मैं आपको बताऊं कि कैसे मैंने धीरे-धीरे आप में खुद को खो दिया
और मीठे हैं आपके अनकहे शब्दों के घाव

क्या मैं अपने एहसास बताऊँ कैसे मैं पिघलता हूँ, रात में तुम्हारे बारे में सोचता हूँ
हमारे बीच झूठ की यह बकबक क्यों मौजूद है? और ए क्यों है?
तुम्हारे और मेरे शब्दों के बीच मौन?

आपने मुझे मेरे चेहरे पर मुस्कान दी और मेरे दिल को भारी महसूस कराया
क्या मैं अपने लिए एक बार आपको सांस दे सकता हूं

और क्या मैं आपको फिर से आदेश देने का अधिकार ले सकता हूं
क्या मैं अपने एहसास बताऊँ कैसे मैं पिघलता हूँ, रात में तुम्हारे बारे में सोचता हूँ

और मेरा दिल आपको अंतिम संदेश देने के लिए लगातार अभ्यास कर रहा है
मैं आग की लपटों से और शहद की मिठास से विचलित होता हूं

और मेरे मन की शांति छिन्न-भिन्न हो रही है
आपने मेरे साथ अपनी छाया छोड़ी और अपने विचारों को सम्मानित किया

और अपने अगले जन्म में भी मैं सिर्फ तुम्हारे साथ रहना चाहूंगा
तब तक मैं हवा में मिल कर मिट जाऊँगा

क्या मुझे आपको बताना चाहिए कि जब मैं रात में आपके बारे में सोचता हूं तो मैं कैसे पिघल जाता हूं
और मेरा दिल लगातार तुम्हारे लिए आखिरी संदेश का अभ्यास कर रहा है

और क्या मैं आपको बताऊं कि कैसे मैं धीरे-धीरे आप में खो गया
और कितने ख़ूबसूरत हैं तुम्हारे अनकहे शब्दों के निशान

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.