Pata Laga Tenu Shok Phulan Da Lyrics In Hindi

Song: Mitti De Tibbe (Pata Laga Tenu Shok Phulan…)
Singer: Kaka
Lyrics: Kaka
Music: Kaka
Label: Times Music

Pata Laga Tenu Shok Phulan Da Lyrics In Hindi

मिट्टी दे टिब्बे दे सज्जे पासे
टिब्बे नालो नाल नी
विच चरांडा दे भेड़ा जो चारे
बाबे तों पूछी मेरा हाल नी

सड़क वल्लीं तेरे कमरे दी खिड़की दी
तख्ती ते लिखेया ऐ ना मेरा
घोड़ी वेचि जिथे चाचे तेरे ने
ओही ऐ जाने ग्राम मेरा

तू मेरे रस्ते तू तक्कदी ही रह गई
उब्बल के चा तेरी चुल्लेह च पै गई
मेरा पता तेरी सहेली नु पता ऐ
तूं तां कमलिये नी जकदी ही रे गई

कारखाने वाले मोड दे कोले
तांगा उडीके तू बोहड़ दे कोले
आजा कदे मेरी घोड़ी ते बह जा
प्यार नाल गल्ल प्यार दी कह जा

नींद ते चैन तां
पहला ही तू ले गई
जान ही रेहँदी ऐ आ वि तू लैजा

अखां विचो किन्ना बोलदी ऐ
चेहरे मेरे चो की टोहलदी ऐ
मेरे विचो तेनु ऐसा की दिखेया
के बाकी ऐने दिल रोलदी ऐ

बालण लेओनी ऐ जंगल चो आथण नु
नाल पक्की इक रखदी ऐ साथण नु
किक्कर दी टाहणी नु माण जा हुँदा ऐ
मोती दंदा नाल छुनी ऐ दातण नु

लक्क तेरे उत्ते जचदे बड़े
नेहरो दो भरदी पित्तल दे घड़े
शहरों पता कर के सेहरे दी कीमत
तेरे पीछे किन्ने फिरदे छडे

तूं तां चौबारे चो पर्दा हटाके
चोरी चोरी मेनू देखदी ऐ
यार मित्तर एक मेरे दा कहणा ऐ
नैणा नाल दिल छेकदी ऐ

अगले महीने मंदिर ते मेला ऐ
मेले दे दिन तेरा यार वि वेहला ऐ
गानी निशानी तेनु लैके देनी ऐ
अल्ले पल्ले मेरे चार कु धेला ऐ

देर क्यों लौनी ऐ जुगत लड़ा ले
मेनू सब्र नी तू काहली मचा ले
बुआ जा मास्सी जा चाची नु कहके
घर तेरे मेरी तू गल्ल चला ले

लिप्प के घर साढ़ा ननद तेरी ने
कंध उत्ते तेरा चेहरा बणाता
चेहरे दे नाल कोई काला जेहा वाह के
ओदे मथे उत्ते सहरा सजाता

पता लग्गा तेनु शौंक फुल्लां दा
फुल्लां दा राजा गुलाब ही ऐ
चार बीघे विच खुशबू उगौनि
हाले काके दा खाब ही ऐ

डोलां ते घुमदी दे साहां च घुल के
खुशबोआं खुश होण गिया
उड दा दुप्पट्टा देख के तेरा
कोयलां वि गाने गौण गिया

Pata Laga Tenu Shok Phulan Da Translation

मिट्टी की छोटी पहाड़ी की तरफ,
तालाब के बिल्कुल पास ही,
वहाँ जो व्यक्ति भेड़ बकरियों को चरा रहा है,
उससे मेरा हाल पूछ लेना|

सड़क वाली तेरे कमरे की खिड़की की,
तख्ती पर लेखा है मेरा नाम,
तुम्हारे चाचा ने जहाँ पर घोड़ी बेचीं है,
वही मेरा घर है|

तुम मेरा इंतिजार करते ही रह गई,
उबल कर चाय तेरे चूल्हे में बह गई,
मेरा पता तेरी सहेली को पता है,
तुम तो शर्माते हुए रह है|

कारखाने वाले मोड़ के पास,
टाँगे का करे इंतिजार खड़ी तू पेड़ के पास,
आ जाओ मेरे पास मेरी घोड़ी पर बैठो,
हमदोनो प्यार के बातें करेंगे|

तुमने मेरा नींद और चैन चुरा लिया है,
अब सिर्फ मेरा जान रह गया है, ये भी तुम ले जाओ,

आँखों से कितना बोलती हो,
चेहरे मेरे में क्या ढूढती हो,
मेरे में तुमने ऐसा क्या देखा,
जो बाकि लड़कों के पास नहीं है|

लकड़ी लेकर आती हो जंगल से शाम को,
साथ पक्की एक रखती हो सहेली को,
किक्कर की टहनी को मान सा होता है,
मोती दांतों से चुहती हो दातुन को,

जब तुम नदी से पित्तल की घड़े में पानी लेकर आते हो,
तब तुम्हारी कमर बहुत अच्छी लगती है,
मैंने सेहरे का दाम शहर से पता कर लिया है,
तेरे पीछे कितने कुवारें लड़के घूमते हैं|

खिड़की का पर्दा हटा के तुम मुझे छुप छुप कर देखते हो,
मेरा एक दोस्त मुझसे कह रहा है की तुम अपनी आखों से मेरे दिल की बात सुनते हो|

अगले महीने मंदिर में मेला है,
और मेले वाले दिन तेरा यार (गायक खुद) भी फ्री है,
गानी निशानी तुम्हें लेकर देना है,
और अभी मेरे पास पैसे की कमी है|

देर क्यों लगाती हो जुगत लगा लो,
मुझे सब्र नहीं जरा जल्दी कर लो,
बुआ या मासी या चची को कह कर हमदोनो की शादी के बारें में घर पर बता दो|

तेरी ननद ने घर की दिवार पर तुम्हारी चेहरा बना दिया है,
तेरे तस्वीर के सामने एक काला इंसान को बना दिया है, जिसके सिर पर सेहरा है|

मुझे पता चला है की तुमको फूलों का शौक है,
फूलों का राजा गुलाब है,
काका (गायक) का बा एक ही सपना है की घर में हमेशा खुशियाँ ही रहे|

बगीचों में घूमकर फूलों की महक में घुल जायेंगे,
तुम्हारी उड़ते हुए दुपट्टे को देखकर कोयल भी गाने लगेगी|

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.