Unakkul Naane Urugum Song Lyrics

LYRICS

Minnum panisaral un nenjil sernthalae
Kannil unnai vaithu pen thaithu kondalae
Vennila thuvin than kaadhal sonnalae
Malligai vaasam un pechil kandalae
Pon maan ivala…
Un vaanavila…
Un vaan ivala…
Un vaanavila…

Unnakkul naanae urughum iravil
Ullathai naan sollava…
Maruvum manathin ragasiya araiyil
Othigai paarthida vaa…
Sirugha sirugha unnil…yennai
Tholaithu mozhi sollava…
Sollal…sollum yennai vaattum
Ranamum thean allava…

Unnakkul naanae urughum iravil
Ullathai naan sollava…

Yenno nam poi vaarthayethaan
Yenn athil un en mounamae thaan
Uthattil sirrippai thanthaai…
Manathil ganathai thanthaai…

Oru murai unnai yenakkendru, swasikkavaa…
Marumurai unnai puthithaaga, swasikkavaa…

Unnakkul naanae urughum iravil
Ullathai naan sollava…
Maruvum manathin ragasiya araiyil
Othigai paarthida vaa…

Theepol.. theanpol..salanamaethaan
Mathiyinum…nimmathi sidhaiyavaethaan
Nizhalai vittu sendrayae…
Ninaivai vetti sendrayae…

Ini oru piravi.. unnodu… vaazhndhidavaa…
Athu varai yennai.. kaatrodu.. serthidavaa…

Unnakkul naanae urughum iravil
Ullathai naan sollava…
Maruvum manathin ragasiya araiyil
Othigai paarthida vaa…
Sirugha sirugha unnil…yennai
Tholaithu mozhi sollava…
Sollal…sollum yennai vaattum
Ranamum thean allava…
Ranamum thean allava…
Ranamum thean allava…

TRANSLATION

चमकती हुई बर्फ
आपकी छाती में सरल
देखने वाले की नजर में
वो लड़की जिसने आपको रखा
கொண்கொண தைத்டாலே
वेनिला पाउडर उसे
अगर तुम प्रेम कहते हो
चमेली की खुशबू तुम्हारी है
भाषण में मिला सोना
हिरण इवला तुम्हारा आकाश है
विला आपकी वैन आइवाला है
आपका स्वर्गीय विला

मैं तुम्हारे भीतर हूं
पिघलने वाली रात का इंटीरियर
मैं आपको बता दूँ
मन के गुप्त कक्ष में
रिहर्सल देखने आओ
तुम में थोड़ा मैं
खोई हुई भाषा बताओ
मुझे शब्द से बताओ
जलन और शहद शहद नहीं है

मैं तुम्हारे भीतर हूं
पिघलने वाली रात का इंटीरियर
मैं आपको बता दूँ

नारी हमारा झूठ है
शब्द क्यों?
इसमें तुम्हारा मेरा मौन है
होंठों पर बस एक मुस्कान
पिता के दिमाग पर भार
पिता जी

एक बार
मेरे लिए
फिर से सांस ले
खुद को तरोताजा रखें

मैं तुम्हारे भीतर हूं
पिघलने वाली रात का इंटीरियर
मैं आपको बता दूँ
मन के गुप्त कक्ष में
अंदर आओ, एक नज़र रखना और खुद का आनंद लें!

जैसे आग और शहद
மதியினும் மதியினும்
शांति बिखर गई है
छाया हट गई
स्मृति कट जाती है

अब दोबारा जन्म नहीं
तुम्हारे साथ जीना
मुझे यह करने के लिए
हवा में जोड़ें

मैं तुम्हारे भीतर हूं
पिघलने वाली रात का इंटीरियर
मैं आपको बता दूँ
मन के गुप्त कक्ष में
रिहर्सल देखने आओ
तुम में थोड़ा मैं
खोई हुई भाषा बताओ
मुझे शब्द से बताओ
जलन और शहद शहद नहीं है
रानम और शहद रानम नहीं हैं
मधु नहीं

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *