Ungli Pakad Ke Firse Sikha De Song Lyrics | Ungli Pakad Ke Godi Utha Lena Maa Song Lyrics

LYRICS

ऊँगली पकड़ के फिर से सिखा दे
गोदी उठा लेना माँ
आँचल से मेरी मुँह पोंछ देना
मैला-सा लागे जहां
आँखें दिखाए मुझे जब ज़िन्दगी
याद मुझे आती है तेरे गुस्से की
डाँटा भी तो तूने मुझे फूलों की तरह
क्यूँ नहीं माँ सारी दुनिया तेरी तरह

माथा गरम है सुबह से मेरा
रख दे हथेली ना माँ
तूने कुछ खाया, देर से क्यूँ आई
कोई ना पूछे यहाँ

हीरा कहा, कभी नगीना कहा
मुझे क्यूँ ऐसे पाला था माँ
तेरी नज़र से मुझे देखे ना जहां
दुनिया को तो डाँटेगी ना, डाँटेगी ना माँ

मुझको शिकायत करनी है सबकी
मुझको सताते हैं माँ
अब तू छुपा ले, पास बुला ले
मन है अकेला यहाँ

TRANSLATION

Teach you to hold the finger again
Dock mother
Wipe my face
Where dirty
Show me eyes when life
I miss your anger
You scolded me like flowers
Why not mother like the whole world like you

My forehead is hot since morning
Keep the palm, no mother
Why did you eat anything, why did you come late
No one asks here

Where is heera
Why did I raise a mother
See you from my point of view, no where
Will not scold the world, will not scold mother

I have to complain everybody
Mother tease me
Now you hide, call near
Mind is alone here

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *